देश
दिल्ली : जेएनयू के छात्र गुस्से में पहुंचे संसद मार्ग, पुलिस से भिड़ंत, कई घायल
By Swadesh | Publish Date: 18/11/2019 6:12:54 PM
दिल्ली :  जेएनयू के छात्र गुस्से में पहुंचे संसद मार्ग, पुलिस से भिड़ंत, कई घायल


- फीस वृद्धि के खिलाफ संसद मार्च, यूनिवर्सिटी गेट पर 1200 पुलिसकर्मी तैनातछात्रों ने बैरिकेड तोड़े, कई हिरासत में
नई दिल्ली . फीस बढ़ोतरी के खिलाफ जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स संसद मार्च कर रहे हैं. सुबह 10 बजे से हजारों की संख्या में मार्च पर निकले छात्रों की पुलिस से झड़प भी हुई जिनमें कई घायल हो गए. फिलहाल, दिल्ली पुलिस ने मानव संसाधन मंत्रालय से बातचीत कराने का प्रस्ताव दिया है, लेकिन अपनी मांगों पर अड़े छात्रों का धरना प्रदर्शन जारी है.
इससे पहले, जेएनयू गेट पर लगाए गए तीन बैरिकेड को छात्रों ने तोड़ दिया. इसके बाद करीब दो घंटे के संघर्ष के बाद छात्रों ने बेर सराय के बैरिकेड को भी तोड़ दिया. इसके बाद छात्रों का मार्च भीकाजी कामा प्लेस फ्लाईओवर तक पहुंचा. छात्र संसद की ओर बढ़ रहे हैं. अभी छात्रों को सफदरजंग टॉम्ब के पास रोक दिया गया.
जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन संसद मार्ग तक पहुंच गया . इससे पहले पुलिस की भारी व्यवस्था के बीच प्रदर्शनकारी छात्र-छात्राओं ने रास्ता बदल लिया है। इसके तहत पहले तो छात्र जेएनयू की ओर वापस मुड़े फिर स्वामी विवेकानंद मार्ग, हयात होटल और फिर सरोजनीनगर होते हुए लीला होटल पहुंछे पहुंचे.  इससे पहले प्रदर्शनकारियों ने एक के बाद एक दूसरा बेरिकेड भी तोड़ दिया, लेकिन तीसरे बैरिकेड पर पुलिस ने उन्हें रोक दिया। पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए अब तक 200-300 से अधिक छात्र-छात्राओं को हिरासत में लिया है। जिन्हें वसंतकुज समेत कई अन्य थानों में ले जाया गया है। वारा हॉस्टल फीस बढ़ान के विरोध में जेएनयू के छात्र पिछले तीन सप्ताह से भी अधिक समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।
वहीं, जेएनयू प्रशासन ने कहा है कि विश्वविद्यालय के शैक्षणिक मानदंडों और अकादमिक कैलेंडर का पालन करना छात्रों के हित में होगा। जिसके अनुसार उन्हें 12 दिसंबर से शुरू होने वाली अंतिम सेमेस्टर परीक्षा में शामिल अनिवार्य रूप से शामिल होना होगा।
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों का फीस बढ़ोतरी, छात्रावास शुल्क वृद्धि और उच्च शिक्षा को प्रभावित करने वाले अन्य मुद्दों के विरोध में सोमवार को संसद तक निकाले जाने वाला मार्च शुरू हो गया। वहीं, पुलिस ने संसद के आसपास इलाकों में धारा 144 लागू कर दी है।

COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS