बिज़नेस
केन्द्र के बाद राजस्थान और मप्र ने भी बढ़ाया पेट्रोल-डीजल पर टैक्स
By Swadesh | Publish Date: 6/7/2019 6:19:25 PM
केन्द्र के बाद राजस्थान और मप्र ने भी बढ़ाया पेट्रोल-डीजल पर टैक्स

जयपुर।केन्द्र की भाजपा-नीत राजग सरकार के बजट में शुक्रवार को पेट्रोल एवं डीजल पर 1-1 रुपये प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी एवं सेस लगाने के बाद कांग्रेस शासित राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकारों ने भी लगे हाथ देर रात से टैक्स बढ़ा दिया है। इससे इन दोनों राज्यों में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में प्रति लीटर चार रुपये से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है।

 
राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर 4-4 प्रतिशत वैट बढ़ाया है। इस वृद्धि के बाद अब पेट्रोल पर वैट 26 से बढ़कर 30 प्रतिशत और डीजल पर 18 से बढ़कर 22 प्रतिशत हो गया है। एक्साइज ड्यूटी, सेस और अब वैट में बढ़ोतरी से राजस्थान में पेट्रोल 4.62 बढ़कर 75.77 रुपये और डीजल 4.59 रुपये बढ़कर 71.24 रुपये प्रति लीटर हो गया है। राज्य के वित्त विभाग ने इस बढ़ोतरी से जुड़ा नोटिफिकेशन शुक्रवार देर रात को जारी किया। 
 
इस बढ़ोतरी के फैसले पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि हमने पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार की गलती को सुधारा है।चुनावी लाभ लेने के लिए वसुंधरा सरकार ने इन पर 4 प्रतिशत वैट कम दिया था। हमने उसे ठीक किया है। 
 
उल्लेखनीय है कि राजस्थान की वसुंधरा सरकार ने पिछले साल 9 सितम्बर को विधानसभा चुनावों से पहले पेट्रोल-डीजल पर 4 फीसदी वैट कम किया था। इसके तहत राज्य में पेट्रोल पर वैट 30 फीसदी से घटाकर 26 और डीजल पर 22 से घटाकर 18 फीसदी किया गया था। अब राज्य सरकार द्वारा इसे दोबारा बढ़ाने से यह फिर पुरानी स्थिति में आ गया है।
 
वहीं मध्य प्रदेश सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर दो रुपये प्रति लीटर अतिरिक्त ड्यूटी लगा दी है। वाणिज्यिक कर विभाग ने शुक्रवार देर रात स्पष्ट किया कि केन्द्र और राज्य की ड्यूटी में बढ़ोतरी के बाद प्रदेश में पेट्रोल के दाम में प्रति लीटर 4.56 रुपये और डीजल में 4.36 रुपये की बढ़ोतरी होगी। शहरों के हिसाब से दरें अलग-अलग होंगी। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में पेट्रोल 73.61 रुपये से बढ़कर 78.09 रुपये प्रति लीटर हो गया है। जबकि डीजल की दर 65.63 रुपये से बढ़कर 70.03 रुपये प्रति लीटर हो गयी है।
 
कमलनाथ सरकार का कहना है कि केन्द्र सरकार ने केन्द्रीय करों में राज्य का हिस्सा करीब 2677 करोड़ रुपये कम कर दिया है। इसी वजह से यह कदम उठाना पड़ा। राज्य सरकार को अतिरिक्त ड्यूटी लगाने से सालाना पेट्रोल-डीजल पर करीब 1500 करोड़ रुपये अतिरिक्त राजस्व मिलेगा।

देश के इन शहरों में पेट्रोल की दरें 
 
शहर         नई दरें     पुरानी दरें
नई दिल्ली    72.96       70.51
 
मुंबई        78.57       76.15
 
चेन्नई       75.76        73.20
 
कोलकाता    75.15       72.75
 
भोपाल      78.09        73.61  
 
गुड़गांव     72.79       70.88
 
लखनऊ   72.14         70.15
 
पटना     77.10         74.68
 
बेंगलुरु    75.37          72.83
 
चंडीगढ़    68.92         66.62
 
हैदराबाद   77.48         74.88
 
(आंकड़े रुपये प्रति लीटर में)
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS