बिज़नेस
अशोक लीलैंड कंपनियों की विलय योजना को एनसीएलटी की मंजूरी
By Swadesh | Publish Date: 21/12/2018 3:19:24 PM
अशोक लीलैंड कंपनियों की विलय योजना को एनसीएलटी की मंजूरी

मुंबई। बड़े वाहनों की निर्माता कंपनी अशोक लीलैंड लिमिटेड ने बाजार नियामक को सूचित किया है कि नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्युनल (एनसीएलटी) की चेन्नई बेंच ने समूह की कंपनियों की विलय योजना को स्वीकार कर लिया है। 

 
एनसीएलटी ने अशोक लीलैंड लिमिटेड (ट्रांसफरी कंपनी) के साथ अशोक लीलैंड व्हीकल्स लिमिटेड, ऐश्ले पॉवरट्रेन लिमिटेड तथा अशोक लीलैंड टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (सभी ट्रांसफेरर कंपनियां) की विलय योजना को मंजूरी दे दी है। वाहन निर्माता कंपनी अशोक लीलैंड की ओर से बताया गया कि नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) की चेन्नई बेंच में इस विलय प्रस्ताव के संदर्भ में आवेदन पर सुनवाई चल रही थी। 
 
एनसीएलटी ने 17 दिसम्बर 2018 को आदेश देते हुए इस विलय योजना को मंजूर कर लिया है। 20 दिसम्बर, 2018 को कंपनी को इस आदेश की कॉपी प्राप्त हुई है। एनसीएलटी ने अपने आदेश में अशोक लीलैंड वाहन लिमिटेड, ऐश्ले पॉवरट्रेन लिमिटेड और अशोक लीलैंड टेक्नोलॉजीज लिमिटेड (ट्रांसफेरर कंपनियां) के साथ अशोक लीलैंड लिमिटेड (ट्रांसफरी कंपनी) की विलय को स्वीकर कर लिया है। 
 
इसके साथ ही इन तीनों कंपनियों से संबंधित शेयर धारकों और लेनदारों के साथ धारा 230 से 232 और कंपनी अधिनियम 2013 के अन्य लागू प्रावधानों के अनुसार ट्रीट किया जाएगा। विलय योजना को 1 अप्रैल, 2018 से लागू माना जाएगा। ऑर्डर की प्रमाणित सत्य प्रति के लिए आवेदन रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज की चेन्नई बेंच में दाखिल किया जा सकेगा।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS