ब्रेकिंग न्यूज़
मध्य प्रदेश
हनीट्रेप की आरोपितों को 14 तक न्यायिक हिरासत में भेजा जेल
By Swadesh | Publish Date: 1/10/2019 3:18:38 PM
हनीट्रेप की आरोपितों को 14 तक न्यायिक हिरासत में भेजा जेल

इंदौर। बहुचर्चित हनीट्रेप मामले में पुलिस रिमांड पर चल रही तीन आरोपी महिलाओं को सोमवार को भोपाल की एक अदालत में पेश किया गया। जहां से उन्हें एक दिन की ट्रांजिट रिमांड पर भेजने के बाद मंगलवार की सुबह इन तीनों महिलाओं सहित पांचों आरोपित महिलाओं को इंदौर की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। 
 
हनीट्रैप मामले में आरोपित श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वपनिल जैन, बरखा अमित सोनी, आरती दयाल उर्फ ज्योत्सना और मोनिका यादव को पलासिया पुलिस ने मंगलवार सुबह जिला कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने पुलिस रिमांड नहीं देते हुए आरोपित महिलाओं को न्यायिक हिरासत में 14 दिनों के लिए जेल भेज दिया है। उधर, श्वेता के पति का आरोप है कि उसकी पत्नी को फंसाया जा रहा है। जमानत मिलने के बाद हम मीडिया के सामने आकर अपनी बात रखेंगे। भोपाल में पिछले तीन दिनों से पुलिस रिमांड पर गई मेरी पत्नी व अन्य के साथ मारपीट भी की गई, जिसकी जांच कराई जाना चाहिए। पत्नी के हाथ में चोट भी लगी है।
 
आरती और रूपा की तलाश
नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह का वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने के मामले में आरती की एक साथी रूपा की भूमिका भी सामने आई थी। होटल इन्फिनिटी में आरती, मोनिका के साथ ही रूपा भी रुकी थी। पूछताछ में पता चला कि रूपा ने भी वीडियो बनाने में आरती का साथ दिया था। रूपा भी आरती की तरह छतरपुर की निवासी है और भोपाल में रह रही थी। बाद में आरती ने बताया, रूपा दिल्ली के ठेके देखती है। एसआइटी ने छानबीन की तो रूपा के साथ प्रियंका का नाम भी आया। प्रियंका और रूपा के बारे में पता चला कि भोपाल के अफसर व नेताओं के वीडियो बनाकर वे भी ब्लैैकमेल कर चुकी है। यह ब्लैकमेलिंंग का तीसरा गिरोह हो सकता है।
 
एसआईटी को लगातार मिल रही गुमनाम शिकायतें
हाईप्रोफाइल हनीट्रैप मामले में आए दिन नए खुलासे हो रहे हैं। वहीं अब इस मामले में एसआईटी के पास कई गुमनाम शिकायतें भी पहुंचने लगी हैं। बताया जा रहा है कि इन शिकायतों में कई नौकरशाहों (ब्यूरोक्रेट्स) के नाम भी शामिल हैं। पुलिस मुख्यालय और सीएम सचिवालय तक यह गुमनाम शिकायतें सबूतों के साथ पहुंच रही हैं। एक ईमेल आईडी भी जारी की थी इस ईमेल आईडी के जरिए भी एसआईटी के पास शिकायतें पहुंचना शुरू हो गई हैं। माना जा रहा है कि जल्द ही एसआईटी इन शिकायतों पर भी एक्शन लेगी भले ही यह नेता और अफसर खुलकर इस मामले में सामने नहीं आ रहे हो, लेकिन अब एक के बाद एक पुलिस मुख्यालय के पास गुमनाम शिकायतें पहुंच रही हैं। 
 
इन शिकायतों में सबूतों के साथ कुछ नौकरशाहों  का पूरा चिठठा दिया गया है। कहा जा रहा है कि अब तक पुलिस मुख्यालय के पास ऐसी 20 से ज्यादा शिकायतें पहुंची हैं। जिसमें श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, आरती दयाल और बरखा भटनागर के संबंध राज नेताओं अफसरों और हाई प्रोफाइल लोगों से होने के सबूत भी शामिल हैं। जल्द ही एसआईटी इन शिकायतों के आधार पर भी अपनी जांच आगे बढ़ाएगी और इन शिकायतों पर एक्शन लिया गया, तो शायद बहुत जल्द ही कुछ नौकरशाहों  और राजनेताओं के नामों का खुलासा भी हो सकता है।
 
सांसें हो रही उपर-नीचे
मध्यप्रदेश के हनीट्रैप मामले से राजनीतिक लोगों की भी सांसें ऊपर-नीचे हो रही है, क्योंकि इसमें पक्ष-विपक्ष दोनों के ही नेता फंस सकते हैं। इनके अलावा कई आईएएस-आईपीएस समेत नौकरशाहों की सांसें उपर-नीचे हो रही है । उनके भी लिप्त होने की जांच चल रही है। इस बीच अश्लील वीडियो बनाकर ब्लेकमेल करने वाली श्वेता विजय जैन ने पूछताछ में कई खुलासे किए हैं। उसके साथ संबंध रखने वाले कई नामों का भी खुलासा किया गया है। इनमें नेता, अफसर और व्यापारी भी शामिल हैं। 
 
सूत्र बताते हैं कि पुलिस की विशेष टीम की पूछताछ में श्वेता विजय जैन, बरखा सोनी और आरती अहिरवार ने कई लोगों के नाम बताए हैं। इन तीनों के पास से बड़ी संख्या में वीडियो क्लिपिंग भी बरामद हुई है । ये तीनों महिलाएं इन्हीं वीडियो के बल पर नेता और अफसरों को ब्लैक मेल कर पैसा ऐंठ रही थीं और मनमाफिक तबादले और टेंडर अपने परिचितों को दिलवा रही थी।
COPYRIGHT @ 2018 SWADESH. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS